12 करोड़ 90 लाख की उत्कृष्ट सडक़ पर रात में अंधेरा, लाइट नहीं होने से होती है दुर्घटनाएं….

 

पेटलावद से हरिश राठौड़ की रिपोर्ट :-

झाबुआ. 12 करोड़ की लागत से तैयार उत्कृष्ट सडक़ पर रात में अंधेरा छाया रहता है। वर्ष 2014 में सडक़ का टेंडर महू की फर्म मेसर्स मेवाड़ा मेडिकेम प्राइवेट लिमिटेड को दिया था। ठेकेदार ने उत्कृष्ट सडक़ निर्माण में भारी अनियमितता बरती, जिसके कारण लोग आज भी प्रभावित हो रहे हैं। समय-समय पर ठेकेदार को ब्लैक लिस्टेड करने एवं केस दर्ज करने की मांग भी उठी थी, लेकिन समयावधि खत्म होने के बावजूद सडक़ की हालत में कोई सुधार नहीं आया , न ही ठेकेदार को ब्लैकलिस्ट मेे डालने की कार्रवाई हुई।

डीपीआर में लाइट की व्यवस्था शामिल नहीं….

इस रोड के निर्माण से समय डीपीआर में प्रकाश व्यवस्था को शामिल नहीं किया गया , इस कारण पूरी 3. 71 किमी के सडक़ पर रात भर अंधेरा छाया रहता है। सडक़ पर बारिश के बाद सैकड़ों गड्ढे उभर आए हैं, इनमें से दो दर्जन जगहों पर बड़े-बड़े गड्ढे जानलेवा साबित हो रहे हैं। इस रोड पर सफर करने वाले मुसाफिर आए दिन दुर्घटना का शिकार हो रहे हैं। अब , सीएमओ ने 1. 42 लाख रुपए का डीपीआर डिवाइडर पर प्रकाश व्यवस्था करने के लिए भेज दिया है। इसकी स्वीकृति मिलते ही उत्कृष्ट सडक़ पर प्रकाश की व्यवस्था हो जाएगी।
कलेक्टर व एसपी के बंगले के सामने जगह-जगह गड्ढे
उत्कृष्ट सडक़ झाबुआ की मुख्य सडक़ है, सडक़ की सबसे बुरी स्थिति राजगढ़ नाका से विजय स्तंभ तक है। यहां कलेक्टर कार्यालय, एसपी कार्यालय ,कलेक्टर निवास, एसपी निवास ,लोक निर्माण विभाग, जिला पंचायत ,फॉरेस्ट विभाग ,न्यायालय जैसे महत्वपूर्ण विभाग है। इस कारण रोड पर आवागमन अधिक है। बरसात के बाद रोड पर बने गड्ढे हादसों का सबब बन रहे हैं।रोड के गड्ढों को दुरुस्त करने के लिए डाला गया मुरम भी बारिश के दिनों में कीचड़ का रूप ले लेता है, कीचड़ और गड्ढों के कारण प्रतिदिन लोग घायल हो रहे हैं। हादसों का शिकार होने वाली अधिकांश महिलाएं हैं।यहां से गुजरने वाले मुसाफिरों में आरती भुरिया, जेना निनामा, संगीता ङ्क्षसगार, अर्चना ङ्क्षसह , विनीता जैन का कहना है कि यदि प्रशासन गड्ढों को दुरुस्त करने में कोताही बरत रहा है , तो कम से कम प्रकाश व्यवस्था दुरुस्त कर दें जिससे कि रात के समय सडक़ों पर हो रहे गड्ढे नजर आ जाएं।

 

Add a Comment

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!